मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 90,अगस्त(प्रथम), 2020

’अगले जनम मोहे कुत्ता कीजो’ पुस्तक को
’इंडिया बुक आफ रिकार्डस’ द्वारा मान्यता।

सुदर्शन सोनी द्वारा लिखी पुस्तक ’अगले जनम मोहे कुत्ता कीजो’ एक ऐसा व्यंग्य संग्रह जिसके सभी 34 व्यंग्य केवल कुत्तों पर केन्द्रित हैं। अपनी तरह की पहली पुस्तक होने के कारण यह चर्चा में रही। प्रसिद्व व्यंग्य कार आलोक पुराणिक द्वारा इसे संपूर्ण एशिया की केवल श्वानों पर लिखे व्यंग्यों की पहली कृति माना गया है। डाक्टर ज्ञान चतुर्वेदी जी द्वारा इसे व्यंग्य में नया प्रयोग कहा है।इसी कडी़ में इसे ’इंडिया बुक आफ रिकार्डस्’ नई दिल्ली द्वारा केवल कुत्तों पर लिखे 34 व्यंग्य संग्रह का एक रिकार्ड बनाया जाना मानते हुये लेखक सुदर्शन सोनी को 21 मार्च 2020 को रिकार्ड की मान्यता देते हुये प्रमाण पत्र व मेडल प्रदाय किया है। लेखक ने बताया कि वे अब गिन्नीज बुक आफ वल्र्ड रिकार्डस् व गोल्डन बुक आफ वल्र्ड रिकार्डस में भी अपना दावा पेश करेंगे। ज्ञातव्य हो कि लेखक को इस किताब को संकलित करने की प्रेरणा उनके प्रिय डागी राॅकी की वर्ष 2017 में आकस्मिक मृत्यु से मिली थी। लेखक द्वारा पुस्तक अपने डाग ’प्रिय राकी को समर्पित’ की गयी है। किसी लेखक द्वारा अपने कुत्ते को पुस्तक समर्पित करने का भी यह संभवतया पहला मौका था।

’इंडिया बुक आफ रिकार्डस’ द्वारा लेखक को इस पुस्तक हेतु अब वल्र्ड रिकार्ड युनिवर्सिटी में दावा पेश करने का आमंत्र ण व सुझाव भी दिया गया है। शीघ्र ही पुस्तक के संबंध में चर्चा व रचना पाठ का एक कार्यक्रम भोजपाल साहित्य संस्थान द्वारा रखा जायेगा । भोजपाल साहित्य संस्थान श्री सोनी की इस उपलब्धि के लिये बधाई देता है। ज्ञातव्य हो कि श्री सुदर्शन सोनी भोजपाल साहित्य संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष भी हैं ।

प्रियदर्शी खैरा
अध्यक्ष भोजपाल साहित्य संस्थान
90/91 यशोदा विहार चूना भटटी भोपाल


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें