मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 90,अगस्त(प्रथम), 2020

स्वतंत्र पत्रकार एवं साहित्यकार सरिता सुराणा का नाम द ब्रिटिश वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज



तेरापंथ धर्मसंघ के दशमाचार्य आचार्य श्री महाप्रज्ञ जी के जन्म शताब्दी वर्ष (1920-2020) के उपलक्ष्य में अणुव्रतसेवी डॉ. ललिता जोगड़ व उनकी टीम के द्वारा आचार्य श्री महाप्रज्ञ जी के जीवन पर आधारित 1121 लोगों द्वारा लिखित कविताओं के संकलन 'महाप्रज्ञ' को द ब्रिटिश वर्ल्ड रिकॉर्ड, लंदन में रिकॉर्ड के लिए भेजा गया। इसके साथ ही इसे गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड, सुप्रीम वर्ल्ड रिकॉर्ड, एशियन वर्ल्ड रिकॉर्ड, इंडियन स्टार वर्ल्ड रिकॉर्ड आदि 27 राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर की संस्थाओं के वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी शामिल किया गया है। यह समस्त जैन समाज के लिए बहुत ही हर्ष का विषय है। अहिंसा यात्रा प्रणेता आचार्य श्री महाश्रमण जी के सान्निध्य में लोक महर्षि महाप्रज्ञ जी का जन्म शताब्दी वर्ष 'ज्ञान चेतना वर्ष' के रूप में मनाया गया। इसी शृंखला में यह प्रयास भी एक ऐतिहासिक कड़ी के रूप में जुड़ गया। इस संकलन में सरिता सुराणा की कविता 'महाप्रज्ञ ग़ौरव गाथा' के चयनित होने पर इसके संपादक मंडल ने उनके प्रति आभार व्यक्त किया है और द ब्रिटिश वर्ल्ड रिकॉर्ड लंदन की ओर से उन्हें ये सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया गया है।


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें