Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 29, जनवरी(द्वितीय), 2018



नया साल मुबारक हो


प्रिया देवांगन " प्रियू "


   
मुबारक हो तुमको ये नया साल ,
सदा सुख से रहना तुम इस साल ।
लड़ाई झगड़ा को छोड़ के ,
नये नये दोस्त बनाना।
सबसे अच्छा बात करके ,
नया जीवन अपनाना।
भेदभाव  को छोड़कर ,
सबको गले लगाना।
इस साल सबसे अच्छा हो ,
यही कोशिश तुम करना।
नया साल में सबकी झोली ,
खुशियों से तुम भर देना।
छोटी मोटी बातों को भुलकर
सच के रास्तों पर चलना।।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें