Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 27, दिसम्बर(द्वितीय), 2017



खिलौना


संतोष कुमार वर्मा


  

मैं  एक  खिलौना हूँ 
लोग आते हैं , मुझे देखते हैं 
जिसे मैं  पसंद  आता हूँ 
वो अपना लेते हैं 
अपनाकर मुझसे  खेलते हैं 
और छोड़ देते है 
उस टूटे और पुराने,
खिलौने की  भांति 
और खोजने के लिए 
निकल जाते हैं 
मुझ जैसा कोई दूसरा 
नया  खिलौना ............... !!

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें