Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 27, दिसम्बर(द्वितीय), 2017



मेरी उदासी का सबब


अशोक दर्द


 
मैं रोज देखता हूँ
स्कूल के प्रांगण से नाले के पार
टैंटों के आस – पास खेलते
नंग – धड़ंग मैले – कुचैले बच्चे
और फटी मैली साड़ियों में लिपटी औरतें
आपस में झगड़ती – उलझती गालियाँ बकती
मर्दों को देखता हूँ रोज
नये – नये रूप धरकर कंधे पर बैग लटकाए
कभी ज्योतिषी तो कभी हकीम के रूप में टैंटों से निकलते
फिर मिलता हूँ बाजार में भी
उन नंग – धड़ंग मैले – कुचैले बच्चों से
जब वे मांग रहे होते हैं भीख
हर रोज किसी नयी तरकीब के साथ
शायद वे जानते हैं धंधे का हुनर
तकनीकी तौर पर
बिडम्बना है यह कि
पेट तक ही सीमित हो गई है उनकी दुनिया
वे नहीं जानते सामने के मेरे स्कूल में
एक बच्चे की कितनी फीस है
वे यह भी नहीं जानते कि
स्विस बैंक में किसके खाते में कितना पैसा है
वे नहीं जानते कि देश को आजाद हुए कितने वर्ष हो गये हैं
वे सिर्फ जानते हैं पेट को कितनी रोटियां चाहिए
वे जानते हैं तो सिर्फ
अपने धंधे की टेक्नीकल बारीकियां
जिनसे कुछ रोटियां ईजाद हो जाती हैं
मैं रोज उन्हें देखता हूँ और रोज उदास हो जाता हूँ
स्कूल के पास ,नाले के पार
स्कूल से दूर इन बच्चों को
क्योंकि .........
मैं इन के लिए कुछ नहीं कर पाता हूँ .....||
           

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें