Sahityasudha

साहित्यकारों की वेबपत्रिका

साहित्य की रचनास्थली

यूनिकोड फॉण्ट में टाइप करने वाले सॉफ्टवेयर को
डाउनलोड करने के लिये इस लिंक ↓पर क्लिक करें।


"साहित्यसुधा" की एप्प डाउनलोड करने के लिए इस लिंक ↓ पर क्लिक करें ।

वर्ष: 3, अंक 61, मई(द्वितीय), 2019

लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुनर्प्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं। सर्वाधिकार सुरक्षित। साहित्यसुधा में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और साहित्यसुधा टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है। साहित्यसुधा एक सम्पूर्णतः साहित्यिक पत्रिका है जिसका उद्देश्य सभी रचनाकारों को प्रोत्साहित करके हिंदी को बढ़ावा देना है | इसके माध्यम से हिंदी साहित्य की सभी विधाओं को सम्मिलित करने का प्रयास किया जाएगा।

साहित्यसुधा

सम्पादकीय मंडल:-

सम्पादक - डॉ०अनिल चड्डा 

सह-सम्पादक - अखिल भंडारी  Akhil Bhandari

साहित्यिक समाचार



"डी एम मिश्र के गजल संग्रह ‘वो पता ढूँढे हमारा’ का विमोचन सम्पन्न"

‘रेवान्त’ पत्रिका की ओर से कवि डी एम मिश्र के नये गजल संग्रह ‘वो पता ढूंढे हमारा’ का विमोचन 21 अप्रैल 2019 को लखनऊ के कैफी आजमी एकेडमी के सभागार में सम्पन्न हुआ। यह उनका चौथा गजल संग्रह है। जाने माने आलोचक डा जीवन सिंह, मशहूर कवि व गजलकार रामकुमार कृषक, कवि स्वप्निल श्रीवास्तव, ‘रेवान्त’ के प्रधान संपादक कवि कौशल किशोर, गजलकार व लोक गायिका डा मालविका हरिओम,.....

....पूरा पढ़ें


व्याकरण शाला में संपन्न हुआ साहित्य सारथी सम्मान समारोह

साहित्य संगम व्याकरण शाला अधिक्षिका श्रीमती लता खरे जी ने बताया है किसाहित्य संगम संस्थान द्वारा संचालित व्याकरण शाला जिसमें व्याकरण की नियमित कक्षाएँ आ० लता खरे जी के निर्देशन में आयोजित होती है , अभी १५-०४-२०१९ से २१-०४-२०१९ तक संचालित अभ्यास कार्य में उत्कृष्ट प्रदर्शन और सक्रियता हेतु व्याकरण शाला साहित्य संगम संस्थान साहित्य सारथी सम्मान प्रदान किये गये है |,......

....पूरा पढ़ें



अभिषेक औदीच्य श्रेष्ठ समीक्षाधीष से हुये सम्मानित

साहित्य संगम व्याकरण शाला अधिक्षिका श्रीमती लता खरे जी ने बताया है किसाहित्य संगम संस्थान द्वारा संचालित व्याकरण शाला जिसमें व्याकरण की नियमित कक्षाएँ आ० लता खरे जी के निर्देशन में आयोजित होती है , अभी १५-०४-२०१९ से २१-०४-२०१९ तक संचालित अभ्यास कार्य में उत्कृष्ट प्रदर्शन और सक्रियता हेतु व्याकरण शाला साहित्य संगम संस्थान साहित्य सारथी सम्मान प्रदान किये गये है |,......

....पूरा पढ़ें


डिजिटल कवि सम्मेलन कविता के रंग पालीवाल के संग

भवानीमंडी:-मधुशाला साहित्यिक परिवार द्वारा डिजिटल कवि सम्मेलन - 7 का आयोजन ऑनलाइन वीडियो तकनीकी द्वारा बड़े हर्षोउल्लास के साथ किया गया।.....

....पूरा पढ़ें


भोजपाल साहित्य संस्थान , भोपाल की मासिक काव्य गोष्ठी दिनांक 07 मई 2019 को भोपाल में संपन्न



साहित्य के क्षेत्र में निरंतर सक्रिय संस्था , भोजपाल साहित्य संस्थान , भोपाल की मासिक साहित्यिक गोष्ठी का आयोजन दिनांक 07 मई 2019 को भोपाल हाट परिसर स्थित ’9 एम मसाला रेंस्तरां’ में किया गया। कार्यक्रम संस्था के कार्यकारी अध्यक्ष श्री सुदर्षन सोनी की अध्यक्षता ,.....

....पूरा पढ़ें


संपादक की ओर से

“भिज्ञ-अनभिज्ञ”
      
कौन हूं? क्या हूं ?? कुछ ज्ञात नहीं
अज्ञात नाम ??? शायद अपना नहीं

जोड दिया गया है मेरे साथ
कहीं से उठा कर या फ़िर चुरा कर

अनजाना अस्तित्व,वस्तुत:स्थापना नहीं
पर पाऊं कहां स्वत्व अपना -
खोजता फिरता हूं यहां,वहां,जहां,तहां!

लगता है कहां - कहां से बीत जायेगा जीवन
आजीवन खोजता ही रहूंगा अस्तित्व अपना
बोध होगा अपनत्व मेरी रिक्ति का
दुनिया को जब, तब मैं न होऊंगा
होगा मेरा अस्तित्व -
पर मैं अनभिज्ञ ही रहूंगा!!
     - डॉ० अनिल चड्डा

अब तक

आपके पत्र



सादर नमन आदरणीय

प्रकाशित हर रचना बेहद उम्दा है
सभी कलम ढेरों बधाईयया

आपकी यह। बेब पत्रिका साहित्यकारो के लिए उम्दा मंच है

Yogi Nishad [yoginishad.yn@gmail.com]

अनिल जी सादर प्रणाम

साहित्यसुधा जिन ऊँचाईयों को छू रही है इसके लिए आपको एवं संपादक टीम को बहुत बहुत बधाई ।अप्रैल द्वितीय अंक प्राप्त हुआ सभी रचनाकारों की अतिसुन्दर रचनाएं उन्हे बधाई |

लेकिन आपकी कविता जिंदगी ने ठग लिया ,डॉ कनिका वर्मा जी की कविता दो परिंदे बहुत अच्छी लगी एवं मनसाराम बैरवाल जी कविता झोंपङी की आग तो भाव विभोर कर देने वाली कविता है यदि इन्हे भावों के बादशाह की संज्ञा दी जाए तो शायद कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी |

लेखक व पाठक

रामदयाल रोहज
खेदासरी (राजस्थान)
ramdayalrohaj.rd@gmail.com

आदरणीय सम्पादक अनिल चड्डा जी

सादर प्रणाम ।

xxxxx आपकी पत्रिका सच में तारीफे काबिल है।

महोदय जी साहित्य सुधा का अप्रैल का प्रथम अंक को पढ़ा उसमे आपकी जो रचना है टूटना नहीं आदमी की जिंदगी के लिए एक दम सार्थक हैं । यदि दुनियां में हम आए हैं तो हमें तो चलना ही पडे़गा चाहे परिस्थितियां कितनी भी कठिन रहें जो जिंदगी हर मसलों को एक घूंट दवा समझ कर पी जाए वही षोहरत की बुलंदी पर पहुंच सकता है। न हम किसी से डरें न हम किसी के आगे झुकें महोदय जी 14 लाईन की इस कविता में आपने जिंदगी की हर वो पहलु को लपेट दिए हैं जो हर इंसान के जिंदगी की आवष्यकता है। अपकी रचना अच्छी लगी । इस रचना से उन लोगों को जरूर लाभ होगा जो किसी काम को करने से पहले सोचते रहते हैं करें या न करें ।



आपका रचनाकार व पाठक
जयशंकर प्रसाद
jsp.tnr@gmail.com



डॉ अनिल चड्डा जी

नमस्कार !

पत्रिका साहित्य सुधा नियमित मिलती है। स्तरीय रचनाओं और सम्पादकीय के लिए आपको बधाई। हिन्दी प्रचार -प्रसार के लिए आपका अतुलित योगदान निःसन्देह सराहनीय है। आपके इस उम्दा प्रयास के लिए हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं।

सादर

रिया शर्मा
दिल्ली
adhikarime@gmail.com

सम्पादक के नाम एक पत्र

आदरणीय प्रणाम। आपकी पत्रिका में गुणवत्ता रचनाओं का चयन कर इन पौधों में सम्पादन की सिचाई कर सकारात्मक की खाद डालने के साथ नकारात्मक के कीड़ों से बचाने की सावधानी रखने से प्रकाशित रचनाओं से पाठक के मस्तिष्क को सुगन्धित ऊर्जा से महकते पुष्प एवं समाधान प्रस्तुत करने वाले मिठास से छलकते फल प्राप्त होते हैं। यही गुण पत्रिका की सफलता एवं सार्थकता का साक्षात् प्रमाण है।

साधुवाद।

सादर ------------------- एक पाठक ---
दिलीप भाटिया 372/201 न्यू मार्केट रावतभाटा 323307 राजस्थान मोबाइल फोन
नंबर 0 9461591498.

इस अंक में



1.अजय अमिताभ सुमन -

(i)ईश वृष
(ii)राष्ट्र का नेता कैसा हो?
(iii)मेरी जिंदगी

2.अजय एहसास -

(i)अवधि रचना -
 अबकी गेहूं मा रोइ दिहिन

(ii)चुनाव आया है
(iii)मैं कुछ कहता हूँ

3.डॉ० अनिल चड्डा -

(i)जिंदगी ने ठग लिया

4.आलोक कौशिक -

(i)खुद को मिटाकर
 हम भी देखेंगे

(ii)जुबां से कहूं
 तभी समझोगे तुम


5.कवि आनन्द सिंघनपुरी -

(i)हाय रे दुनिया

6.अनिल कुमार -

(i)मिट्टी के घर की कहानी

7.आंचल सोनी -

(i)एक भूल कर बैठे हम...!
(ii)मजबूर नादान पक्षी हूँ मैं..!!

8.अर्विना गहलोत -

(i)दहलीज से सूरज सरक गया

9.कवि चंद्र मोहन किस्कू -

(i)फाल्गुन आ रहा है
(ii)प्यार का पेड़

10.दीप्ति शर्मा (दुर्गेश) -

(i)गरीबी की कहानी
(ii)वक़्त को हालातों
 में बदलते देखा है

(iii)श्रमिक

11.डॉ दिग्विजय शर्मा "द्रोण" -

(i)मजदूर

12.गरिमा -

(i)श्रमिक की व्यथा

13.जय प्रकाश भाटिया -

(i)तेरा खत
(ii)कब यह वक़्त बदलेगा

14.कविता गुप्ता -

(i)'रचयिता' ( God)से !!

15.महेश चंद्र द्विवेदी -

(i)एक स्लम की व्यंग्योक्ति



16.मन्दाकिनी श्रीवास्तव -

(i)धरती माँ
(ii)जीवन की पहेली

17.मुकेश कुमार ऋषि वर्मा -

(i)भूल स्वीकार कर
(ii)बता माँ तू क्यों गई हार
(iii)हम क्या से क्या हो गये

18.नवीन कुमार भट्ट "नीर" -

(i)भक्ति

19.निशा नंदिनी भारतीय -

(i)मानव की यात्रा

20.नीति वर्मा -

(i)नारी का मन
(ii)स्वप्न
(iii)यादों के आकार

21.ओम प्रकाश अत्रि -

(i)चूल्हा
(ii)कलम
(iii)खैनी

22.पंकज गुप्ता -

(i)अन्तर्मन की सुन लेना......

23.डॉ प्रदीप उपाध्याय -

(i)अन्नदाता
(ii)दाता बनकर तो देखो!

24.डॉ रचनासिंह"रश्मि" -

(i)समझ पाते

25.राजेश कुमार शर्मा"पुरोहित" -

(i)भगवान परशुराम की वन्दना

26.रामदयाल रोहज -

(i)मरुधरा खंडकाव्य
 (खण्ड २)


27.रश्मि सुमन -

(i)बोगनवेलिया की छाँव तले

28.रोली मिश्रा -

(i)लड़की की बस यही कहानी है

29.रवि प्रभात -

(i)टूटा दिल हमारा

गीत, गज़ल, इत्यादि

आलेख, कहानियाँ, व्यंग्य, इत्यादि

कृपया अपनी रचनाएँ,जो मौलिक होनी चाहिए और यूनिकोड फॉण्ट में टंकित हों, निम्नलिखित
ई-मेल पर भेजें :-

sahityasudha2016@gmail.com
[यूनिकोड फॉण्ट में टाइप करने वाले सॉफ्टवेयर को डाउनलोड करने के लिये इस लिंक पर क्लिक करें]

गोपनीयता नीति

"साहित्यसुधा को सब्सक्राइब करें"

सहित्यसुधा की सूचना पाने के लिये कृपया अपना ई-मेल पता भेजें