Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 45, सितम्बर(द्वितीय) , 2018



सूचना


लिस्बन विश्वविद्यालय के भारतीय अध्ययन केंद्र, कला-संकाय और भाषाविज्ञान केंद्र द्वारा भारतीय सांस्कृतिक संवर्धन परिषद (आई.सी.सी.आर.) और भारतीय दूतावास के सहयोग से दूसरी / विदेशी भाषा के रूप में हिंदी के पठन-पाठन को ध्यान में रखते हुए लिस्बन, पुर्तगाल में अंतराष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है I जिसमें हिंदी को विदेशी भाषा या द्वितीय भाषा के रूप में अध्यन करने और सीखने सिखाने के आयामों पर चर्चा को बढ़ावा दिया जाएगा I इस सम्मेलन का मुख्य उदेश्य यूरोप और उसके बाहर हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार करने वाले केन्द्रों के विस्तार और उनके बीच सम्पर्क स्थापित करने के साथ-साथ हिंदी भाषा के शिक्षण में भाषाई विविधता वाले क्षेत्रों में आने वाली चुनौतियों का समाधान ढूँढने पर बल देना है I इसके अलावा हिंदी भाषा को द्वितीय भाषा के रूप में पठन-पाठन से सम्बंधित क्षेत्र में शोध करने के लिए भी प्रेरित करना है I

इनमें संभावित बिंदु निम्नलिखित हैं (परन्तु ये सीमित नहीं हैं):

– द्वितीय भाषा के रूप में हिंदी शिक्षण
– विदेश भाषा के रूप में हिंदी शिक्षण
– हिंदी व्याकरण का भाषा शिक्षण में प्रयोग
– शिक्षण पद्धतियाँ
– तुलनात्मक भाषा विज्ञान अध्ययन
– अनुवाद अध्ययन
– भाषाई नीतियाँ
– वेब आधारित संसाधन (एप्स, शब्दकोश, कोर्पस…)
– डिजिटल उपकरण एवं तकनीक
– आभासीय (भर्चुअल) क्षेत्रों में हिंदी – हाइब्रिड और ऑनलाइन शिक्षण के लिए प्रभावी साधन
– द्विभाषिता और भाषाई मिश्रण (डीग्लोसिया)
– भाषा एवं सांस्कृति शिक्षण
– हिंदी भाषा शिक्षण में साहित्य का प्रयोग

कृपया ३० जून२०१८ ३१ नवम्बर २०१८ से पहले { http://linguistlist.org/easyabs/IHCLisbon} मंच के माध्यम से अपने सारांश प्रपत्र (एब्स्ट्रैक्ट) भेजें I शब्द सीमा: ५०० शब्दों से कम (सन्दर्भ सूचि को छोड़कर) l इसमें निम्न बिंदु शामिल होने चाहिए:

– शीर्षक
–विषय वस्तु का स्पष्ट संकेत
– पद्धति
– शोध परिणाम
– सन्दर्भ

सारांश प्रपत्र (एब्स्ट्रैक्ट) पुर्तगाली, हिंदी, और अंग्रेजी किसी एक भाषा में भेजे जा सकते हैं I सम्मेलन में आलेख इन तीनो भाषाओँ में से किसी एक भाषा में प्रस्तुत किया जा सकता हैं, लेकिन आलेख सभी प्रतिभागियों के लिए उपयोगी हो पाए, इसलिए आयोजन समिति आलेख की प्रस्तुति की प्रति, डिजिटल प्रस्तुति आदि को अँग्रेजी में भी उपलब्ध करवाने की सलाह देती है l

प्रपत्र (एब्स्ट्रैक्ट) की स्वीकृति की पुष्टि अगस्त २०१८ ३१ जनवरी २०१९ तक भेजने की उम्मीद है I

स्वीकृति प्रपत्रों के पूर्ण आलेख ३१ अप्रैल २०१९ तक भेज दिए जाने चाहिए ताकि आलेखों को समय से प्रकाशित किया जा सके l

अन्य किसी जानकारी के लिए आयोजकों से ihclisbon@gmail.com पर संपर्क करें I

Thanks n Regards साभार,
Prof. Shiv Kumar Singh प्रो. शिव कुमार सिंह ,
Diretor de Centro de Estudos Indianos निदेशक, भारतीय अध्ययन केंद्र
Faculdade de Letras da Universidade de Lisboa लिस्बन विश्वविद्यालय, कला-संकाय
http://www.letras.ulisboa.pt/pt/


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें