Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 45, सितम्बर(द्वितीय) , 2018



हिन्दी दिवस पर बधाई.......


उमाशंकर सैनी


 
देते है हम आपको, हिन्दी दिवस पर बधाई,
क्योंकि ये हमारी मातृभाषा, जन्म से कहलाई॥ 

प्राचीन संस्कृत है इसकी जननी,
इसकी भाषा हर कोई चाहे सुननी॥

मेरे देश के कण-कण मे हिन्दी है बसी,
मेरे माता-पिता की बोली इसमें है बसी॥ 

अमेरिका मे जाकर दिया, अपनी मातृभाषा मे उपदेश,
ऐसा है हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र जी मोदी का स्वदेश ॥ 

ये हमारे लिए है गर्व की बात,
बोलो हिन्दी निडरता के साथ॥ 

हिन्दी भारत माँ का गहना है,
इसे हम सबको आगे बढ़ाना है॥ 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें