Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 46, अक्टूबर(प्रथम) , 2018



क्योंकि मैं लड़की हूँ


रंजन कुमार प्रसाद


                          
क्योंकि मैं लड़की हूँ 
मेरा प्रयोग किया जाता है
जहाँ भी देखिये सरेआम
लूटी जाती हूँ,
क्योंकि मैं लड़की हूँ?
जिंदगी के हर मोड़ पर
बिच चौराहे पर
रसूख के बिस्तर का
शौक बनाई जाती हूँ
क्योंकि मैं लड़की हूँ?
नेताओ के मौज का
पांचसितारा होटल का
भोजन बनाई जाती हूँ
क्योंकि मैं लड़की हूँ?
आगे मैं क्या कहूँ
दिल की बात किससे कहूँ
यहाँ हर गली में मेरा
यूज़ एंड थ्रो किया जाता है
क्योंकि मैं लड़की हूँ?
बिहार में बहार देखिए
मुजफ्फरपुर कांड देखिये
ऐसे मैं कितने कांड बनाई जाती हूँ
क्योंकि मैं लड़की हूँ?

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें

bppandey20@gmail.com