Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 46, अक्टूबर(प्रथम) , 2018



अकेला कहाँ हूँ


लवनीत मिश्रा


   
अच्छा हूँ बुरा हूँ,अलग ही खडा हूँ, 
फिर भी कहो मै,अकेला कहाँ हूँ, 
संग है सदा मेरे,सपनों के साथी,
उम्मीदों की दुनिया में,हसरतों के साथी,
अलग हूँ सभी से,ना मुझको गिला है,
सच ही कहू मै,अकेला कहाँ हूँ,
भीड में चलना नही चाहता हूँ, 
झूठी दुनिया से घबराता जरा हूँ, 
रिश्तों की डोरी से,अब मै बंधा है,
यकीन से हूँ कहता,मै अकेला कहाँ हूँ, 
अच्छा हूँ बुरा हूँ,अलग ही खडा हूँ, 
फिर भी कहो मै,अकेला कहाँ हूँ, 
छल कपट का मुखौटा लगाकर, 
अपने परायों का अंतर बताकर,
पग पग पर अपनो ने ही ठगा है,
सच ही कहू मै,अकेला कहाँ हूँ।
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें

bppandey20@gmail.com