Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 46, अक्टूबर(प्रथम) , 2018



दिल की बात कर लें


प्रीती श्रीवास्तव


                         
जरा ठहर तो सही मुलाकात कर लें।
आंखो आंखो मे दिल की बात कर लें ।।

मिले फिर कब क्या पता इस बात का।
ठहर कर चन्द बातें तो आज कर लें।।

मिलता कहां है वक्त इजहार के लिये।
कह दे दिल की बात यही रात कर लें।।

वक्त है रेत की माफिक सुन तो सही।
मुट्ठी मे कुछ पल को तो आज कर लें।।

लब जो मुस्कुराये शाम ढल जायेगी।
चांद सी सुहानी अपनी रात कर लें।।

हाथो मे हाथ देकर साथ चल तो सही।
गुनगुनाकर गजल पूरी मुराद कर लें।।

कांधे पे तेरे सर रख के सो जाये हम।
तेरे ख्वाब मे खोकर तुझे याद कर लें।।
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें

bppandey20@gmail.com