Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 1, अंक 5, नवम्बर, 2016



व्यथा कथा भारतीय नारी की

अमरेंद्र सुमन


कहानी अभिषप्त दुभाग्य के कीचड़ में सनी भारतीय नारी की गुहा-गहवरों वन-वाटिकाओं रेत-टिल्हों गाॅव-कबीलों जहाॅ भी गॅध लगी कोई उपेक्षिता अपने शावकों के दुग्धापान के लिये अपनी हड्डियों से तोड़ रही पत्थरों को कि भोग की परितृप्ति लिये दैत्यों की एक अनवरत श्रृॅखला इन्द्रजाल में फाॅसने को दिख जाते गिद्धों की तरह आजु-बाजू मंडराते भविष्यहीन महत्वहीन आकांक्षा रहित भारतीय नारी का संसार
www.000webhost.com

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें