मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 5, अंक 96,नवम्बर(प्रथम), 2020

गाँधी - शास्त्री जयंती पर दोहे

शिवेन्द्र मिश्र 'शिव'

दो अक्तूबर को जले, अलग अलग दो दीप। कृषक मसीहा एक 'शिव', दूजा सत्य प्रदीप।। लाल बहादुर लाल सा , नहीं जगत में लाल । समरसता अरु सादगी , उनकी बनी मिसाल । 'गाँधी' 'शास्त्री' ने किया, सभी दिलों पर राज। जन्म जयंती पर उन्हें, करता नमन समाज।। सत्य अहिंसा न्याय का, फैलाया सन्देश। बापू के आदर्श से , नतमस्तक है देश।। देशभक्ति अरु सादगी, की 'शिव' एक मिसाल। गौरव भारत भाल के, बनें बहादुर लाल।। बापू–शास्त्री पर करें, भारतवासी गर्व । दो अक्टूबर इसलिए, बना राष्ट्रीय पर्व ।। नमन 'महात्मा'-'लाल' को, जन्म दिवस पर आज। तन मन धन सब कुछ किये, अर्पित हेतु स्वराज।।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें