मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 85, मई(द्वितीय), 2020

लड़ाई

प्रिया देवांगन ‘प्रियू’

शहर की लड़की थी मीरा , उसकी शादी पास के गाँव मे हुई थी । उसके घर मे मीरा , उसके सास - ससुर और उसका पति रहता था।पति दिन भर काम मे चला जाता था । ससुर भी बाहर काम मे चला जाता था।घर मे मीरा व उसकी सास दोनों रहती थी। मीरा की सास थोड़ी लड़ाकू स्वभाव की थी । छोटी-छोटी बात में रोकती - टोकती थी।यह बात मीरा को अच्छी नही लगती थी। मीरा शहर की लड़की थी और थोड़ी चंचल स्वभाव की थी । वह काम हो जाने के बाद अपना व्हाट्सएप , फेसबुक चलाने लग जाती थी । मीरा का मोबाइल चलाना और उसका दूसरे लोगों से बात करना उसकी सास को पसंद नही था। जैसे ही मीरा मोबाइल पकड़ती उसकी सास कुछ कुछ काम करने के लिये बोल देती थी ।इसी बात में दोनों की लड़ाई हो जाती ।मीरा कहने लगी कि जब भी मै मोबाइल चलाती हूं आप मुझे काम करने में लगा देती हो । मीरा की सास बड़बड़ाते हुये कहती हैं , न जाने तेरे इस मोबाइल में क्या है दिन भर पकड़े रहती है कुछ काम नहीं करती। एक दिन फिर मोबाइल के कारण सास-बहू में बहुत लड़ाई हुई , फिर मीरा ने सोचा रोज - रोज का लड़ाई - झगड़ा अच्छा नही है । फिर मीरा ने अपने सासु माँ के लिये भी एक मोबाइल गिफ्ट किया और अपनी सास को बताया कि व्हाट्सएप और फेसबुक कैसे चलाते हैं। उस दिन के बाद से मीरा और उसकी सास में कभी लड़ाई नही हुई । मीरा की सास अपना मोबाइल ले के फेसबुक और व्हाट्सएप चलाने लगी । और अपने कमरे में बैठी रहती थी और मीरा को बेटी की तरह रखती थी।


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें