Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 37, मई(द्वितीय), 2018



सत्ता पान का पत्ता


अभिषेक कांत पाण्डेय


 

बकरी खाती है पत्ता 
पर राजनीति न करती 
अपने हिस्से का मेहनत से चबाती 
पर नेता चबा जाता है 
चारा
स्पेक्ट्रम 
बैंक 
कोयला 
तोप 
अनगिनत चीजें ।
पचाता है 
डकारता है
कभी खराब नहीें होता उसका पेट
हर पांच साल के बाद कुछ दिन 
जनता के नाम रखता है व्रत 
मजबूत हो जाता  है
उसका पाचनतंत्र 
उसका आहारनाल हर बार बढ जाता 
लीवर बखूबी देता साथ 
मिलकर काम करना 
हर घोटाले को घोट जाना 
जानता है पचाना ।
हर बात से इनकार करता 
उसका दिल व दिमाग 
बचाता उसे
जानते हो कैसे? 
उसका पाचनतंत्र है  मजबूत 
दिमाग व दिल को 
मिलता है 
उनकों उनका घोटाले वाला हिस्सा।
		 
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें