Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 37, मई(द्वितीय), 2018



तितली रानी


प्रिया देवांगन "प्रियू"


           
तितली रानी तितली रानी ,
लगती बहुत  प्यारी हो ।
दिन भर बागों में घूमती, 
तुम कितनी न्यारी हो ।
बच्चों के संग खेला करती, 
हाथ कभी न आती हो ।
फूलों का रस चूस चूस कर ,
दिन भर मौज उड़ाती हो ।
रंग बिरंगे पंख तुम्हारे, 
तुम सबसे न्यारी हो ।
तितली रानी तितली रानी 
तुम कितनी प्यारी हो ।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें