Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 1, अंक 13, मई(द्वितीय), 2017



नाना की पिटारी में

प्रिया देवांगन "प्रियू"

बढ़िया बढ़िया खेल खिलौने, नाना की पिटारी में ।
आओ झूमे नाचे गाये  , नाना की पिटारी में ।
छुकछुक छुकछुक रेलगाड़ी, नाना की पिटारी में ।
सैर करे हम जंगल झाड़ी , नाना की पिटारी में ।
शेर भालू हिरण चीता,   नाना  की  पिटारी में ।
खेले कूदे नाचे सीता,   नाना की पिटारी में ।
गीत कहानी गजल कविता, नाना की पिटारी में।
 पहाड़ पर्वत झरना सरिता,  नाना की पिटारी में ।
कोयल गाये मोर  नाचे , नाना की पिटारी में ।
बंदर मामा पुस्तक बांचे, नाना की पिटारी में ।
धूम धड़ाका करते भालू, नाना की पिटारी में ।
डंडा लेकर दौड़े लालू, नाना की पिटारी में ।
www.000webhost.com

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें