मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 89,जुलाई(द्वितीय), 2020

अंतरात्मा

राकेश कुमार तगाला

संतोष,कोई काम तुम ठीक से नहीं करती हो,मैं तुम्हें समझा-समझा कर थक गई हूँ।आखिर तुम चाहती क्या हो?कब तुम मेरे अनुसार काम करोगी?सुलेखा लगातार बहू पर शब्दों के बाण छोड़ रही थीं।पर उसने कभी पलट कर जवाब नहीं दिया।

सुलेखा का व्यवहार ऐसा ही था।उसकी बहू ने अच्छी तरह भाँप लिया था।प्रतिकार का मतलब था।उन्हें और ठेस पहुँचना,जो वह कभी नहीं करना चाहती थी।सुलेखा चाहती थी कि वह कुछ गलत कदम उठा दे,ताकि वह उसे घर से बाहर का रास्ता दिखा सके।जैसे उसकी सास ने किया था।

संतोष चुपचाप पीड़ा सह रही थीं।घर मे किसी चीज की कमी नहीं थी।बस सास का कटु व्यवहार ही उसके हृदय को छलनी कर रख देता था।

सुलेखा की सहेली उसके व्यवहार से परिचित थी।वह बहू से बहुत सहानुभूति भी रखती थी।बेटी,तुम अपनी सास का विरोध क्यों नहीं करती?कब तक सहन करती रहोगी?वह बहुत धीमे स्वर में बोल रही थीं कि कहीं चाय बनाती सुलेखा ना सुन ले? पर सुलेखा के कान वहीं थे।चाची में अपनी सास का विरोध कभी नहीं कर सकती।वह दिल की बहुत अच्छी है।सुलेखा बहू की बात सुनकर हैरान रह गई।उसे अपने कानों पर यकीन नहीं हो रहा था।

वह रात भर करवटें बदलती रही बिस्तर पर।एक तरफ उसके अतीत का कड़वा अनुभव था।दूसरी तरफ उसका वर्तमान।

उसकी अंतरात्मा की आवाज जो उसे कचोट रही थी।

उसने सुबह उठते ही बहू को अपने पास बिठाया,उसे प्यार से स्पर्श किया।आज संतोष को सास की आँखों मे प्यार का सागर उमड़ता दिख रहा था।वह माँ जी कहकर उनसे लिपट गई।सुलेखा ने बहू को अपनी बाहों में भर लिया।काश वह पहले अपनी अंतरात्मा की आवाज सुन लेती।माँ जी क्या सोच रही हो,वो अंतरात्मा की आवाज?क्या?


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें