Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 1, अंक17, जुलाई(द्वितीय), 2017



खजाना


गोवेर्धन यादव


" तुम पर मैं कई दिनों से नजर रख रहा हूँ. बडी सुबह ही तुम समुद्र- तट पर आ जाते हो और देर शाम को घर लौटते हो ?

  " मुझे अच्छा लगता है, यहां आकर."

  " कभी समुद्र की गहराई में उतरे भी हो कि नहीं?"

  " नहीं ..एक बार भी नहीं ?"

  "फ़िर समझ लो तुम्हारी पूरी जिन्दगी बेकार में गई. यदि तुम एक बार भी समुद्र में उतरते तो तुम्हारे हाथ नायाब खजाना लग सकता था. क्या तुम्हारा ध्यान इस ओर कभी नहीं गया .?"आखिर तुम करते क्या हो इतनी सुबह-सुबह आकर?"

  " बडी सुबह मैं इसी इरादे से आता हूँ, लेकिन आसपास पडा कूडा-कचरा देख कर सोचने लगता हूँ कि पहले इसे साफ़ कर दूं ,फ़िर इतमीनान पानी में उतरूंगा. बस इसी में शाम हो जाती है."

  " आखिर यह सब करने से तुम्हें मिलता क्या है?.

  " कुछ नहीं, बस मन की शांति."

  " बकवास...सब बकवास".

  " शांति से बढकर और कोई चीज हो सकती है क्या.".उसने इत्मिनान से उत्तर दिया था.

www.000webhost.com

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें