Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 1, अंक17, जुलाई(द्वितीय), 2017



पेड़ लगायें


महेन्द्र देवांगन माटी


 		 
चलो चलें एक पेड़ लगायें, 
धरती को हम स्वर्ग बनायें ।
चारों ओर हरियाली छाये ,
खुशियों की बगिया महकायें ।

पौधे लाकर हम लगायें, 
चारों ओर घेरा बनायें ।
खाद पानी रोज डालें, 
जानवरों से इसे बचायें ।

नये नये कोपल निकलेंगे ,
हर डाली पर पत्ते बिखरेंगे ।
उड़ उड़ कर पक्षी आयेंगे ,
चींव चींव मीठे गीत गायेंगे ।

ताजा ताजा फल लगेंगे, 
बच्चे बूढ़े खुश रहेंगे ।
सुंदर सुंदर फूल खिलेंगे ,
इसकी सेवा खूब करेंगे ।
www.000webhost.com

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें