Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 40, जुलाई(प्रथम), 2018



अपने जन्म दिवस पर


डॉ. प्रमोद सोनवानी पुष्प


                                                                   
अपनें जन्म दिवस पर मुन्ना ,
बढियाँ गीत सुनाया जी ।
ताक-धिना-धिन नाच-नाचकर ,
सबका मन बहलाया जी ।।1।।

बीच-बीच में पों-पों,पीं-पीं ,
बजा रहा था बाजा जी ।
जो भी आता प्यार जताता ,
आ जा मुन्ना राजा जी ।।2।।

कोई कहता जरा बताओ ,
कितनें लड्डू खाये जी ।
मुन्ना झट शरमाकर कहता ,
जितनें जो भी लाये जी ।।3।।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें