Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 1, अंक 16, जुलाई(प्रथम), 2017



आठ एकम आठ

डॉ० अनिल चड्डा


आठ एकम आठ,
आठ दूनी सोलह,
संगत बुरी से,
दूर सदा रहना ।


आठ तीए चौबीस,
आठ चौके बत्तीस,
आदतें तुम अपनी,
रखना नफीस ।

आठ पंजे चालीस,
आठ छेके अड़तालीस,
कपड़े, किताब, बस्ता,
नहीं रखना गलीच ।

आठ सत्ते छप्पन,
आठ अट्ठे चौसठ,
मंशा में अपनी,
कभी न लाना खोट ।

आठ नामे बहत्तर,
आठ दसे अस्सी,
दोस्त बनो अच्छे,
रहो अच्छे पड़ोसी ।
www.000webhost.com

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें