Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 1, अंक 7, जनवरी, 2017



हाइकु

अशोक बाबू


पाँव पसार खामोश द्वार बैठी किरणें प्रात: भानु हँसता मगन सी हो जाती शीतल हवा आजा बिटिया खेल किरणें संग गा गीत खूब देहरी पर उतर आया चाँद घास नाचती
www.000webhost.com

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें