मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 5, अंक 103, फरवरी(द्वितीय), 2021

घर-घर में पहुँचे कविता

>

दिनांक 31/12/20 के दिन वरिष्ठ नागरिक काव्य मंच 'गुजरात इकाई ' का सफ़ल आयोजन किया गया। श्री नरेश नाज़ जी के द्वारा वरिष्ठ नागरिक काव्य मंच को अब तक 22 राज्यों में स्थापित किया गया है।इसका लक्ष्य वरिष्ठ कलमकारों के अनुभव बाँटना है जिससे भावी कलमकार लाभान्वित हो सकें तथा वरिष्ठ कवियों को अधिक मुखरित होने के अवसर प्राप्त होते रहें।

गुजरात इकाई की यह शाखा अभी अपनी शैशवावस्था में है जिसको चैतन्य बनाने का श्रेय इसकी अध्यक्षा सुश्री मंजु महिमा जी को जाता है।

मंजु जी अब तक महिला -काव्य-मंच तथा वरिष्ठ- नागरिक-मंच दोनों मंचों का कार्यभार संभाल रही हैं।

गोष्ठी का शुभारंभ माँ शारदे के प्रति नतमस्तक हो , डॉ. प्रणव भारती द्वारा दीप-प्रज्वलन व स्तुति से किया गया।

इस गोष्ठी में विभिन्न विषयों पर सुंदर ग़ज़ल व कविता-पाठ करने वाले कविगण हैं....

महेश सोनी जी,मधु माहेश्वरी जी,अंजना गांधी जी, जानकी पालीवाल जी,आत्मप्रकाश जी,प्रतिभा पुरोहित जी,सरला सुतरिया जी,डॉ.भागिया ख़ामोश, कुमुद वर्मा जी,मधु सोसि जी,मंजु महिमा जी, डॉ. प्रणव भारती, डॉ.जी.एस.आनंद, जया आर्या जी,अशोक तिवारी जी। 2020 के अंधकार को विदाई देते हुए सबने आने वाले वर्ष का स्वागत एक नवीन ऊर्जा से किया।

इस गोष्ठी के अध्यक्ष पद पर अशोक तिवारी जी व मुख्य अतिथि के रूप में सुश्री जया आर्या जी जो मध्यप्रदेश महिला मंच की अध्यक्षा हैं, सुशोभित हुए।

अतिथि डॉ.जी.एस.आनंद ने अपना हास्य- व्यंग्य का रचना -पाठ करके गोष्ठी के माहौल को ख़ुशनुमा बना दिया।

गोष्ठी में आ.नरेश नाज़ जी की उपस्थिति से मंच पर सभीको एक नवीन ऊर्जा प्राप्त हुई।

नरेश नाज़ जी ने मंजु महिमा जी के संयोजन की प्रशंसा करते हुए उन्हें महिला-काव्य-मंच की गु जरात इकाई की अध्यक्षा व डॉ.प्रणव भारती को वरिष्ठ-नागरिक-काव्य-मंच अहमदाबाद की अध्यक्षा के रूप में घोषणा की।

उनके प्रेरणादायक संबोधन के पश्चात् डॉ.प्रणव भारती ने आ.नाज़ साहब को धन्यवाद अर्पण किया।

आ.अशोक जी को अध्यक्षता के लिए जया आर्या जी को मुख्य अतिथि के रूप में पधारने के लिए धन्यवाद प्रदान किया।

सुंदर संचालन के लिए मधु सोसि जी को ,तकनिकी संयोजन के लिए कुमुद वर्मा जी को धन्यवाद दिया गया।

अंत में माँ शारदे को नमन करके सभी मंचस्थ कलमकारों को धन्यवाद प्रदान करने के पश्चात् ख़ुशनुमा माहौल में गोष्ठी को विराम दिया गया।

प्रेषिका-
डॉ. प्रणव भारती,
महासचिव महिला मंच,
गुजरात


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें