Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 1, अंक 6, दिसम्बर, 2016



विनम्र अनुरोध

सुशांत सुप्रिय


जो फूल तोड़ने जा रहे हैं उनसे मेरा विनम्र अनुरोध है कि थोड़ी देर के लिए स्थगित कर दें आप अपना यह कार्यक्रम और पहले उस कली से मिल लें खिलने से ठीक पहले ख़ुशबू के दर्द से छटपटा रही है जो यह मन के लिए अच्छा है अच्छा है आदत बदलने के लिए कि कुछ भी तोड़ने से पहले हम उसके बनने की पीड़ा को क़रीब से जान लें
www.000webhost.com

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें