Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 1, अंक 6, दिसम्बर, 2016



गज़ल - ए मेरे दिल तुझे हुआ क्या है

सुधेश


ए मेरे दिल तुझे हुआ क्या है बस सुबह से बुझा बुझा सा है । क्या किसी ने तुझे कहा कुछ है पर किसी ने तुझे कहा क्या है । । तू कभी तो थके राही सा चलता क्यों कभी भागता गाड़ी सा है । क्या किसी याद का झौंका आया या कोई दुख पुराना दुखता है ।
www.000webhost.com

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें