Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 42, अगस्त(प्रथम) , 2018



देश प्रेम के मतवाले


डॉ. प्रमोद सोनवानी पुष्प


                        
रोक सको तो हमें रोक लो ,
हम हैं न रुकनें वाले ।
जायेंगे दौड़े सरहद पर ,
कभी न हम डरने वाले ।।

गोली दागेंगे दन - दन - दन ,
दुश्मन मार भगायेंगे ।
भारत माँ की सेवा खातिर ,
आगे बढ़ते जायेंगे ।।

बढे चलेंगे , नहीं रुकेंगे ,
देश प्रेम के हम मतवाले ।
रोक सको तो हमें रोक लो ,
हम हैं न रुकनें वाले ।।
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें