Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 34, अप्रैल(प्रथम), 2018



रिश्ता पुराना हो गया


डॉ० अनिल चड्डा


रिश्ता पुराना हो गया!   
जाने कहाँ वो खो गया!!   

मैं तो बताता राह रहा,
वो राह अपनी चलता रहा,
मैं कुछ और उसे कहता रहा,
कुछ और वो समझता रहा,
जब समझना चाहिये था उसे,
जोने क्यों वो सो गया!

दीवानों की ये बस्ती है,
दीवानों सा मैं हो गया, 
कुछ भी नजर आये मुझे, 
शब्दों में है समा गया, 
पढ़ कर अपनी ही बातें,
अनायास ही मैं रो दिया! 

दिल बोले क्या, न समझूं मैं, 
पन्नों को यूँ ही रंग दूँ मैं,
तुम समझो तो बतला दो मुझे,
जो गलत हो उसे बदल दूँ मैं, 
लौटाया इस जग को वो,
जग ने जो मुझको दिया!

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें

www.000webhost.com