Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली



परिचय


दिनेश चन्द्र पुरोहित


लेखक का नाम दिनेश चन्द्र पुरोहित

जन्म की तारीख ११ अक्टूम्बर १९५४

जन्म स्थान पाली मारवाड़ +

Educational qualification of writer -: B.Sc, L.L.B, Diploma course in
Criminology, & P.G. Diploma course in Journalism.

राजस्थांनी भाषा में लिखी किताबें – [१] कठै जावै रै, कढ़ी खायोड़ा [२] गाडी रा मुसाफ़िर {ये दोनों हास्य-नाटक की किताबें, रेल गाडी से “जोधपुर-मारवाड़ जंक्शन” के बीच रोज़ आना-जाना करने वाले एम.एस.टी. होल्डर्स की हास्य-गतिविधियों पर लिखी गयी है!} [३] मारवाड़ री कहानियां.. [मानवीय सम्वेदना पर लिखी गयी कहानियां] ! सिटीजंस सोसाइटी फॉर एज्यूकेशन के तत्वाधान मे बुधवार २३ अगस्त २०१७, सांय ५ बजे स्वामी कृष्णानन्द स्मृति सभागृह में महाराजा मान सिंह पुस्तक प्रकाशन के द्वारा मेरी चयनित की गयी पुस्तक ‘मारवाड़ री कहानियां’ का लोकार्पण किया गया ! इस सामारोह के मुख्य अतिथि डॉक्टर अर्जुन देव चारण कन्वीनर [राजस्थांनी भाषा], श्री आईदान सिंह भाटी अध्यक्ष एवं प्रोफ़ेसर ज़हूर खां मेहर प्रमुख वक्ता थे!

पुस्तक “कठै जावै रै, कढ़ी खायोड़ा,” “गाड़ी रा मुसाफ़िर” और “मारवाड़ री कहानियां का हिंदी अनुवाद किया जा चुका है ! अब इस समय पुस्तक “गाड़ी रा मुसाफ़िर” का हिंदी अनुवाद कार्य जारी है !

हिंदी भाषा में लिखी गयी किताब – डोलर हिंडो [व्यंगात्मक नयी शैली “संसमरण स्टाइल” को काम में लेकर लिखे गए वाकये! राजस्थान में प्रारंभिक शिक्षा विभाग का उदय, और उत्पन्न हुई हास्य-व्यंग की हलचलों का वर्णन]

उर्दु भाषा में लिखी किताबें – [१] हास्य-नाटक “दबिस्तान-ए-सियासत” – मज़दूर बस्ती में आयी हुई लड़कियों की सैकेंडरी स्कूल में, संस्था प्रधान के परिवर्तनों से उत्पन्न हुई हास्य-गतिविधियां इस पुस्तक में दर्शायी गयी है! [२] कहानियां “बिल्ली के गले में घंटी. – सरकारी दफ़्तर के मुलाज़िमों की स्वार्थ-लोलुप्तता पर उत्पन्न हुए हास्य-व्यंग ! साहित्य शिल्पी में सहयोग – ई पत्रिका साहित्य शिल्पी में मेरी मारवाड़ी कहानियां हिंदी अनुवाद सहित प्रकाशित होती रही है ! कब्बूड़ा, मैणत री कमाई और हिंज़ड़ो कुण.. अै, कै वै..?, आखा खिलकत में भांग न्हाख्योङी, बैना रा पाट, वगैरा प्रकाशित हो चुकी है ! हास्य-नाटक “कहां जा रिया है, कढ़ी खायोड़ा” खण्ड १ से खंड १५ तक ई पत्रिका ‘साहित्य शिल्पी’ में प्रकाशित हो चुका है ! शौक – व्यंग-चित्र बनाना!

निवास – अंधेरी-गली, आसोप की पोल के सामने, वीर-मोहल्ला, जोधपुर [राजस्थान].
www.000webhost.com

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें