Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 25, नवम्बर(द्वितीय), 2017



डॉ० रिक लिंडल द्वारा रचित अंग्रेजी पुस्तक 'The Purpose'
के हिंदी अनुवाद का अगला भाग
[.....पिछले अंक से] अध्याय 3
"होलर फार्म"


लेखक: डॉ० रिक लिंडल
अनुवादक: डॉ० अनिल चड्डा


रिक्की अगली गर्मियों में लक्जमोट वापिस नहीं गया, अपने पिता और अंकल को निराश करते हुए, क्योंकि उसकी माँ के बाल अभी उस विचार से खड़े हो जाते थे कि भाइयों ने सिग्गी की एक बेटी के बदले रिक्की को बदलने का कुचक्र रचा था. उसको यह भी आशा थी कि एक नया फार्म रिक्की के लिये कुछ नई चुनौतियाँ लाएगा.

इसलिये, वसंत ऋतु की शुरुआत में, रिक्की के आइसलैंड के दक्षिण में एक फार्म, जिसका नाम होलर था, पर गर्मियां व्यतीत करने की व्यवस्था की गई थी. इस फार्म का नित्यकर्म वैसा ही था जिसका वह उत्तरी आइसलैंड में अपने अंकल के फार्म पर आदी हो गया था. वहां धोड़े और भेड़ें थीं, और साथ ही साथ गाय भी थीं जिन्हें वह सुबह हांक कर लाता था और फिर दूध निकालने के बाद उन्हें चारागाह में हाँक देता था. जब वह तेरह वर्ष का था रिक्की ने इस फार्म पर गर्मी का एक साधारण समय व्यतीत किया था, लेकिन जब रिक्की चौदह वर्ष का हुआ तो किसान की कैंसर के कारण मृत्यु हो गई. वह अपने पीछे अपनी पत्नी और एक बेटे, फ्रेडरिक, को छोड़ गया था जो उस समय अट्ठारह वर्ष का था और उसने फार्म को चलाने का काम संभाल लिया था. अगली गर्मियों में रिक्की उस युवा किसान की सहायता करने में बहुत स्फूर्तिमान हो गया. वहां बहुत कुछ करने को था और बहुत से कार्य, जिनमें से कुछ हाथ से गायों का दूध निकालना था, यद्दपि दूध निकालने वाली मशीनों ने पास के फार्मों पर पैर जमा लिये थे. रिक्की कई घंटे खेतों में इधर-उधर, एक एकड़ के बाद दूसरे एकड़ में, ट्रेक्टर चलाने में भी व्यतीत करता था, गाने गाते हुए सूखी घास को निकालते हुए, जैसे क्लिफ रिचर्ड्स का ये वाला:

“भाग्यशाली होंठ हमेशा चुम्बन करते हैं
भाग्यशाली होंठ कभी नीले नहीं होते.
भाग्यशाली होंठ हमेशा बहुत सच्चे होठों का जोड़ा पायेंगे.
चार पत्तियों वाली तिपत्तिया धास नहीं चाहिये,
खरगोश का पैर या एक मोहक आकर्षण,
भाग्यशाली होठों के साथ तुम्हे हमेशा ही
बाहों में एक शिशु मिलेगा.”40

बारह वर्ष की उम्र में रिक्की को यह पता लग गया था कि वह हकलाने के किसी आभास के बिना गा सकता था. यह उसे स्वतंत्रता दे रहा था. उसका सबसे अच्छा मित्र, थोर, गिटार बजाता था, और उन्होंने बीटल्स गानों का, और साथ ही साथ अन्य लोकप्रिय संगीत का, अभ्यास करना शुरू कर दिया. वह अनगिनित घंटे एक साथ गाना गाने और ताल-मेल बिठाने में व्यतीत करते थे, ऐसी गतिविधि जिससे जल्दी ही एक बैंड की, जिसमें रिक्की मुख्य गायक था, स्थापना हो गई, और अगली वसंत में उन्होंने स्कूल नृत्यों में बैंड बजाना शुरू कर दिया. यह शौक कुछ वर्षों तक चला, जब तक कि रिक्की अपने चौदहवें वर्ष में नहीं पहुंचा.

फ्रेडरिक जल्दी ही एक अन्ना नामक स्त्री के प्रेम में पड़ गया, जिससे वह एक पास की नर्सरी में मिला था. कुछ वर्षों बाद उनका विवाह हो गया. लेकिन कुछ देर बाद ही उनके वैवाहिक जीवन का आनंद आकस्मिक समाप्त हो गया, जब एक भयानक घटना हो गई. सामान्य गर्भ के बाद, उनके पहले बच्चे को जन्म के कुछ हफ्तों बाद एक अनजान बीमारी हो गई जिससे उसको लकवा मार गया था और उसे गंभीर रूप से मानसिक बीमारी हो गई थी. कुछ वर्षों के बाद, चिकित्सकों के बहुत सोच-विचार और सलाह के बाद, जो बीमारी का कारण नहीं ढूँढ़ पाए थे, फ्रेडरिक और उसकी पत्नी ने दूसरे बच्चे को जन्म देने का जोखिम उठाया. जल्दी ही उनका दूसरा पुत्र हो गया और यह देख कर कि वह जन्म के बाद बिलकुल स्वास्थ था और उसका विकास सामान्य हो रहा था उन्हे अत्यधिक राहत मिली. फिर उन्होंने महसूस किया कि तीसरा बच्चा पैदा करना भी सकुशल रहेगा, यह सोचते हुए कि उनके पहले बच्चे ने एक विरला वायरस पकड़ लिया होगा या कुछ अस्पष्ट आनुवंशिक अनुक्रम विकृत हो गया होगा जिससे बीमारी हो गई थी. उनका तीसरा बच्चा भी लड़का था. इस बार, परन्तु, भाग्य उनके साथ नहीं था, और, उसके जन्म के कुछ सप्ताहोपरांत उसे भी वही बीमारी हो गई जो उनके पहले बच्चे को हुई थी.

फ्रेडरिक और अन्ना तबाह हो गये, और यदि उनके समुदाय ने उनकी सहायता की होती और उनको सहारा न दिया होता और जो अध्यात्मिक सहारा उनको चर्च से मिला था वह न मिला होता, तो वह उसका मुकाबला नहीं कर पाते. रिक्की, उसे याद करते हुए जो पुरानी आत्मा ने उससे कुछ वर्षों पहले उसके बारे में कहा था, कि उसने ही हकलाने को और पढाई में अपनी समस्या को चुना था, विस्मित हो रहा था क्या कि इन लड़कों ने जन्म से पहले अपने भाग्य को चुना था, और क्या किसान और उसकी पत्नी अपने अध्यात्मिक विकास के लिये इस भावुक और भौतिक बोझ को लेने के लिये सहमत हुए थे. यदि ऐसा था, तो निश्चय ही वह यह जिम्मेदारी लेने के लिये आगे आये थे, क्योंकि वह लड़कों के लिये अपने प्रेम और देखभाल से कभी नहीं चूके – उनकी मानवीय भावना की एक जीत. यह एक ऐसा विषय था जिसके बारे में निश्चित ही रिक्की पुरानी आत्मा से चर्चा करना चाहता था, जब भी उसे उससे फिर से मिलने का मौका मिले.

इसी तरह से, एक भयावह आपदा फ्रेडरिक के सौतेले भाई और उसकी पत्नी पर टूट पड़ी, जो कुछ मील की दूरी पर एक समीप के शहर में रहता था. एक डंप ट्रक ने पीछे होते हुए एक टन रेत उनके तीन-वर्षीय लड़के पर पलट दी थी, जो ट्रक के पीछे खेल रहा था, और रेत के भार से उसका दम घुट गया था. यह, बेशक, दूसरा विषय था जिसके बारे में रिक्की पुरानी आत्मा से चर्चा करना चाहता था. फिर रिक्की का एक सोलह वर्षीय मित्र था, जो एक कार दुर्घटना में मर गया था. वह एक यात्री था, जब उसके मित्र ने, जो कार चला था, एक रात गाँव के नृत्य से वापिस लौटते हुए एक बजरी की सड़क पर यान का नियंत्रण खो दिया था. ऐसी ही एक विपदा रिक्की के सहपाठियों में से एक, जिसके पर वह अंदर ही अंदर प्रेमासक्त था, पर टूट पड़ी, जिसके सिर में भी, गाँव के डांस से वापिस लौटते हुए, लारी के पीछे से निकला हुआ एक लोहे का सरिया घुस गया था. वह तत्काल ही मर गया. यान के ड्राईवर, जो रिक्की का एक प्रिय मित्र भी था, और स्कूल में सबसे तेज दौड़ने वालों में से था, को भी कमर के नीचे लकवा मार गया था. और एक अंतिम कहानी – उच्च-स्कूल के बैंड के ड्रमर के साथ भी एक त्रासदी घट गई. वह तेरह वर्ष का था तो बाहर के शिविर में दोस्तों के साथ शराब पीने के बाद नशे की हालत में दलदल के दो समूहों के बीच उसके सिर के फंस जाने से अपनी पीठ पर लेटे-लेटे ही मृत्यु को प्राप्त हो गया. अपने मुंह में उल्टी करने के कारण उसका दम घुट गया था. रिक्की इन दुर्घटनाओं को समझने के लिये संघर्ष कर रहा था. क्या उन सब का यही भाग्य था? क्या यह ईश्वर का काम था? रिक्की ने निश्चय किया कि पुरानी आत्मा से इन प्रश्नों के कुछ प्राप्त करेगा जब वह अगली बारे मिलेंगें.

एक और दिलचस्प घटना होनी शुरू हो गई थी. कुछ वर्षो पहले रिक्की की बहन के जन्म से पहले उसकी माँ के गर्भ रह गया था. लेकिन, उस समय उसकी सेहत की परेशानियों के कारण, उसने देर की गर्भावस्था में गर्भपात कराने का विकल्प चुना. बच्चा एक लड़का था, और वह आध्यात्मिक आयाम के अंदर बड़ा हो गया.41 परन्तु,वह धरती पर जीवन का इच्छुक रहा और अक्सर रिक्की से मिलने आता था, उसके सराहने प्रकट हो कर, जब वह निंद्रा में जाने वाला होता था, क्योंकि जब उसका शरीर सो रहा होता था तो वह उसके साथ दूसरे आयामों में कुछ समय व्यतीत करना चाहता था. यह रिक्की को परेशान नहीं करता था, लेकिन उसने इसके बारे में भी पुरानी आत्मा से पूछने की योजना बनाई, क्योंकि उसके ‘भाई की रूह’ उसे एक विशिष्ट भूत नहीं लग रहा था.


40 क्लिफ रिचर्ड. लकी लिप्स. यू.के., 1963 रिकार्ड किया गया. जेरी एवं माइक स्टोलर द्वारा लिखित.
41 ऐसे ही वृतांत के लिये टॉड बुर्पो. हेवन इस फॉर रियल. नशविल्ले: थॉमस नेल्सन, 2010.
[क्रमशः........(अगले अंक में पढ़ें "प्रेम एवं सहवास")]
www.000webhost.com

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें