Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 1, अंक 9, मार्च, 2017



पर्यावरण - संरक्षण

सरिता सुराना


शहर में पर्यावरण - संरक्षण सप्ताह मनाया जा रहा था । जगह - जगह रैलियां औऱ सभाएं आयोजित की जा रही थी ।सरकार ने एक सप्ताह में एक लाख पौधे लगाने का लक्ष्य तय किया था ।सभी को पौधे मुफ्त में बांटे गए ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग वृक्षारोपण करें ।मुख्यमंत्री स्वयं अपने हाथों से पौधारोपण कर रहे थे औऱ लोगों को भी इसके लिए प्रेरणा दे रहे थे ।इसके साथ ही शहर की बढ़ती हुई आबादी की आवश्यकतानुसार ट्रैफिक की समस्या को दूर करने हेतु सङक विस्तारीकरण भी जारी था ।

सङकें चौङी करने के लिए भूमि अधिग्रहण जरूरी था। अधिकांश भूमि में किसानों की खेती की हुई थी औऱ फसल पककर तैयार थी परन्तु सरकार ने रातोंरात उनके खेत जब्त कर लिए । इसके अलावा सङक के किनारे के अनेक हरे - भरे वृक्ष जो उस परिधि में आते थे वे भी सङक विस्तारीकरण की भेंट चढ़ गए । शहर में अब भी पर्यावरण - संरक्षण सप्ताह मनाना जारी था ।

www.000webhost.com

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें