Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 1, अंक 9, मार्च, 2017



तीन रंगों का प्यारा झंडा

महेंद्र देवगन "माटी"

तीन रंगों का प्यारा झंडा, शान से हम लहरायेंगे ।
कभी नही हम झुकने देंगे, आगे बढ़ते जायेंगे ।
कोई दुश्मन आंख उठाये, उनसे न घबरायेंगे ।
जान की बाजी खेलकर अपनी, हम तो इसे बचायेंगे ।
भारत मां के बेटे हैं हम , गीत प्यार के गायेंगे  
कभी नही हम झुकने देंगे, आगे बढ़ते जायेंगे ।


आंधी आये तूफां आये , रुक नही हम पायेंगे ।
दुश्मन की सीना को चीरकर, आगे आगे बढ़ते जायेंगे ।
है अपना ये प्यारा झंडा , चोटी पर लहरायेंगे ।
कभी नही हम झुकने देंगे, आगे बढ़ते जायेंगे ।


भारत माता सबकी माता, सुंदर इसे बनायेंगे ।
भेदभाव हम नहीं करेंगे, सबको हम अपनायेंगे।
शांति का संदेश लिये हम , नये तराने गायेंगे ।
कभी नही हम झुकने देंगे, आगे बढ़ते जायेंगे


तीन रंगों का प्यारा झंडा, शान से हम लहरायेंगे।
कभी नही हम झुकने देंगे, आगे बढ़ते जायेंगे ।
www.000webhost.com

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें