Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 1, अंक 9, मार्च, 2017



बुद्धिजीवी

ब्रिजेन्द्र अग्निहोत्री

मच्छर जैसा साधारण जीव,
जिसका कोई अस्तित्व नहीं होता 
मानव को दुखित-व्यथित कर देता है 

मच्छर ही क्यों, कोई भी सामान्य जीव 
मानव को 
व्यथित-पीड़ित करने में समर्थ होता है 

क्यों...?
क्या इसका सिर्फ़ एक ही उत्तर नहीं है 
कि ‘मानव बुद्धिजीवी है’
www.000webhost.com

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें