Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 1, अंक 8, फरवरी, 2017



गोल-गोल

महेंद्र देवांगन

चुड़ी गोल बिंदी गोल
दीदी की बाली है गोल
तवा गोल रोटी गोल
मामी बोले मीठी बोल |
तबला गोल ढोलक गोल
ढोल के अंदर पोल है गोल
झांझ गोल मंजीरा गोल
कोयल बोले मीठी बोल |
चक्का गोल टायर गोल
मोटर की पहिया है गोल
बेलन गोल बर्तन गोल
दादी बोले मीठी बोल |
आम गोल जाम गोल
नीबू और संतरा है गोल
तरबूज गोल खरबूज गोल
नानी बोले मीठी बोल |
पेड़ा गोल जलेबी गोल
रसगुल्ला और लड्डू गोल
चांद गोल तारे गोल
दादा बोले पृथ्वी गोल |
www.000webhost.com

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें