Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 27, दिसम्बर(द्वितीय), 2017



व्यंग कविता -
शाम ढ़ले मधुशाला


अमरेश सिंह भदोरिया


 
सुबह-सुबह मंदिर में दर्शन 
शाम ढले मधुशाला ,........
तन-से बगुला वरन बने 
मन-कौवे-से भी काला,.....
.
आदर्शों में पूँज रहे ..........
गाँधी जी की तस्वीरें .........
मौका मिलने पर करते,......
घोटाले में घोटाला,.............
.
हमको भी अपना कहते.....
तुमको भी अपना कहते,....
सबसे जोड़ रहें हैँ रिश्ता.....
रोटी-बोटी वाला,...............
.
गाँव-गाँव में गली-गली में....
घर-घर जाकर कहते,.........
मैंने भी हांथो में थामी.........
लोकतंत्र की माला,............
.
सपथ-सत्य की खाते .........
लेकर मन-में सेवा भाव,......
अपनी हर चालों में चलते....
पाशा-शकुनी वाला,............
.
अपने चारों ओर लगे हैं.......
प्रहरी वर्दी-वाले,................
पर खुद को कहते ............
मैं हूँ तेरा-रखवाला,...........
.
मौसम का अनुमान लगाते..
वो पुरवाई के रुख पर,.......
सपनोँ की फूली फुलवारी में
"अमरेश" गिरा कब पाला ...।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें

www.000webhost.com